-42%

12 Mukhi Rudraksha (12 faces Rudraksha)

4,100.00 7,100.00

12 (Twelve) Mukhi Rudraksha Benefits

The twelve Mukhi Rudraksha has some amazing characteristics. The ruler of this rudraksha is the sun god. This Rudraksha represents the twelve Adityas or the manifestations of the sun. This rare bead gives brilliance, lustre and radiance to the wearers. The subject attains the qualities of leadership, wealth and happiness. Twelve Mukhi rudraksha removes fears and enhances health by remedying physical as well as mental pins and troubles. This bead is also used for curing Vastu problems and the effects of black magic. Diseases of the blood vessels, heart, eye, skin problems, night blindness and urinary stones are cured by this rudraksha in addition to the malefic effects of the sun. This is the ideal bead to be worn by politicians, administrators and leaders.

सूर्य देवता का आशीर्वाद प्राप्त द्वादशमुखी रूद्राक्ष तेजस्विता, चमक और शक्ति का केन्द्र है। धारक को असीम प्रशासनिक क्षमता मिलती है, क्योंकि इसमें सूर्य का गुण है, सतत तेजस्वी प्रकाश व ऊर्जा प्रदान करना।

Size: 23mm NEPAL BEAD

Authenticate and certified by Sri Kashi Vedic Sansthan, Varanasi

sri kashi vedic sansthan

12 (Twelve) Mukhi Rudraksha Benefits

The twelve Mukhi Rudraksha has some amazing characteristics. The ruler of this rudraksha is the sun god. This Rudraksha represents the twelve Adityas or the manifestations of the sun. This rare bead gives brilliance, lustre and radiance to the wearers. The subject attains the qualities of leadership, wealth and happiness. Twelve Mukhi rudraksha removes fears and enhances health by remedying physical as well as mental pins and troubles. This bead is also used for curing Vastu problems and the effects of black magic. Diseases of the blood vessels, heart, eye, skin problems, night blindness and urinary stones are cured by this rudraksha in addition to the malefic effects of the sun. This is the ideal bead to be worn by politicians, administrators and leaders.

बारह मुखी रूद्राक्ष में बारह धारियाँ होती हैं, बारह मुखी रूद्राक्ष भगवान सूर्य के बारह रूपों के ओज, तेज और शक्ति तथा सामथ्र्य का केन्द्र बिन्दु है। यह रूद्राक्ष इस सृष्टि को चलाने वाले तेजस्वी और प्रभावशाली सूर्यदेव का प्रतीक है। 12 आदित्य का वास इसमें होता है, यह सभी बाधाओं का निवारण करने वाला ‘आदित्य रूद्राक्ष’ के नाम से जाना जाता है। बारह मुखी रूद्राक्ष धारण करने से मनुष्य को शासक का पद प्राप्त होता है, यह शादी-विवाह सम्बन्धों की विवशताओं को दूर करता है। 12 mukhi rudraksha बारह मुखी रूद्राक्ष धारण करने वाले धारक के भीतर जीवनदायी व जीवन को श्रेष्ठ बनाने की क्षमताओं का विकास होता है। धारक का जीवन उज्जवलित हो उठता है, और हर दिशा में प्रकाशमय ज्ञान का विचरण प्रचार करने योग्य बन जाता है। पद्म पुराण के अनुसार इसके धारक को गरीबी कभी नहीं सताती। इसको धारण करने से हमेशा चेहरे पर प्रसन्नता, समाज में मान-सम्मान तथा वांणी में चातुर्यता उत्पन्न होती है। बारह मुखी रूद्राक्ष बहुत शक्तिशाली और तेजस्वी रूद्राक्ष होता है, उसे पशु और जानवर तो क्या आत्म रक्षा में मनुष्य की हत्या का पाप भी नहीं लगता। धारक को कभी शारीरिक या मानसिक पीड़ा नहीं होती। बारह मुखी रूद्राक्ष महाविष्णु का स्वरूप हैं। इस दाने को पहनने से विष्णु भगवान का आशीर्वाद प्राप्त होता है। पृथ्वी के सभी प्राणियों के प्राण-रक्षक सूर्य भगवान हैं। जिस प्रकार सूर्य पूरी दुनिया को ऊर्जा प्रदान करते हैं, उसी प्रकार बारह मुखी रूद्राक्ष के धारक की ख्याति सूर्य की किरणों की तरह सभी दिशाओं में प्रकाशित होती है।

बारह मुखी रूद्राक्ष, बारह ज्योर्तिलिंगों महाकाल, रामेश्वरम्, सोमनाथ, मल्लिकार्जुन, ओंकारेश्वर, वैद्यनाथ, भीमाशंकर, नागेश्वर, विश्वेशवर, त्रयम्बकेश्वर, केदारेश्वर, धुष्मेश्वर का प्रतीक माना जाता है। इसको धारण करने वाला कभी रोग, चिन्ता, भय, भ्रम से परेशान नहीं होता है। धन, वैभव, ज्ञान और अन्य भौतिक सुखों का प्रदाता यह रूद्राक्ष अद्भुत रूप से प्रभावशाली है। बारह मुखी रूद्राक्ष ब्रह्मचर्य की रक्षा कर, चेहरे का तेज और ओज बनाये रखता है। यह सूर्य के समान कर्मशील तथा प्रखर तेजस्वी है। इसे धारण करने वाला राजा जैसा सम्मान प्राप्त करता है। बारह मुखी रूद्राक्ष विशेष रूप से बालों में धारण करने से विशेष लाभ प्रदान करता है, इसे कान में धारण करने से द्वादश आदित्य प्रसन्न होते हैं। धारणकर्ता समाज में सम्मानित होता है, तथा वाणी चातुर्य से किसी को भी वश में कर लेने की अद्भुत क्षमता प्राप्त कर लेता है। बारह मुखी रूद्राक्ष धारण करने से चोरों का एवं अग्नि का भय नहीं रहता, निराश रोगियों के लिये यह अत्यंत लाभदायक औषधि माना गया है। इसकी माला गले मे धारण करने से मानसिक व शारीरिक पीड़ा से छुटकारा मिलता है। सूर्य देवता का आशीर्वाद प्राप्त द्वादशमुखी रूद्राक्ष तेजस्विता, चमक और शक्ति का केन्द्र है। धारक को असीम प्रशासनिक क्षमता मिलती है, क्योंकि इसमें सूर्य का गुण है, सतत तेजस्वी प्रकाश व ऊर्जा प्रदान करना।

इसका धारण हेतु मंत्र है- ॐ क्रौं क्षौं रौं नमः। ॐ द्वादश आदित्येभ्यो नमः।

चैतन्य मंत्र- ॐ हृीं क्षौं घृणिः श्रीं।। अतः इस मंत्र से रूद्राक्ष को चैतन्य कर धारण करना चाहिये।

उपयोग- जीवन में यश, आदर, आनंद, तृप्ति प्रदान करता है, व मित्रता के अभाव को दूर करता है।

Brand

Sri Kashi Vedic Sansthan

Sri Kashi Vedic Sansthan provides the devotees authenticate and certified religious articles like pooja samgari, yantras, malas, rudraksha, pure herbs, idols, dresses, poshak, vastra and all their spiritual and religious needs at one place. Original Quality Articles at a reasonable price.
sri kashi vedic sansthan
Weight 3.1 g
Dimensions 2.3 × 1.9 × 1.5 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “12 Mukhi Rudraksha (12 faces Rudraksha)”
Review now to get coupon!

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × 2 =