Devibhagwat Ki Pramukh Kathyen (Stories of Devi Bhagwat)

25.00

1647 Devibhagwat Ki Pramukh Kathyen (Stories of Devi Bhagwat) in Hindi with pictures by Gita Press Gorakhpur.

इस पुस्तक में देवी भागवत की प्रमुख कहानियाँ पढ़ने को मिलती है |बच्चो के संस्कार तथा ज्ञान वर्धन के लिए छोटे में रंगीन चित्रों के साथ बहुत ही सुन्दर पुस्तक है | इसे पढ़कर हमारे महान ग्रंथो के बारे में जानकारी मिलती है |

In this book, we get to read about the Prime Stories of Devi Bhagwat in brief. This is a beautiful book with colourful pictures for children’s rites and knowledge enhancement. By reading this, we get information about our great books.

इस पुस्तक में देवी भागवत की प्रमुख कहानियाँ पढ़ने को मिलती है |बच्चो के संस्कार तथा ज्ञान वर्धन के लिए छोटे में रंगीन चित्रों के साथ बहुत ही सुन्दर पुस्तक है | इसे पढ़कर हमारे महान ग्रंथो के बारे में जानकारी मिलती है |

भगवान् विष्णु के हयग्रीवावतार की कथा, मधु-कैटभ की कथा, महामुनि शुकदेव एवं तत्त्वज्ञानी जनक, भगवती महिषासुरमर्दिनी, राजा सुरथ एवं समाधि वैश्य को देवी- दर्शन, सत्यवादी महाराज हरिश्चन्द्र, भगवती (शताक्षी ) शाकम्भरी, भगवती के ‘दुर्गा’ नाम का इतिहास, उमा ( हैमवती ) देवी, परात्पर भगवान् श्यामसुन्दर एवं मूल प्रकृति राधा, श्रीकृष्ण के वामांश से प्रकट राधा और श्रीकृष्ण के द्वारा सृष्टि रचना, त्रिदेवों के द्वारा भगवती की आराधना और रावणवध का वरदान, श्रीभ्रामरी देवी की कथा, इन्द्रदर्पहारिणी भगवती आदिशक्ति, श्री भुवनेश्वरी देवी तथा उनका परमधाम मणिद्वीप, गायत्री-महिमा, त्रिकालोपास्या भगवती गायत्री 

Brand

Geetapress Gorakhpur

Weight 118 g
Dimensions 27 × 18.5 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Devibhagwat Ki Pramukh Kathyen (Stories of Devi Bhagwat)”
Review now to get coupon!

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 + 2 =