-20%

Kashi Sankat Mochan Sindoor Lape (Kesariya Sindoor)

(1 customer review) 27 sold

16.0040.00

काशी संकट मोचन सिन्दूर लेप ( असली चमेली के तेल से निर्मित ) यह सिन्दूर लेप पहले से ही तैयार डिब्बी में है अतः  श्री गणेश जी, श्री हनुमान जी , भैरव जी या अन्य जगह पर जहाँ तेल में मिला के सिन्दूर लगाया या चढ़ाया जाता है वहाँ श्रद्धालु स्वयं अर्पण कर सकते है |

घर पर मूर्ति पर लेप करने के लिए या तिलक के प्रयोग के लिए सर्वोत्तम |

Kashi Sankat Mochan Sindoor lep ( Orange vermillion with jasmine oil) for Sri Hanuman Ji, Sri Ganesh Ji, Bhairav Ji and other deities. Easy to use packing, useful for home and offering at the temple. It can be used also for Tilak.

Quality Product of S.BHAWANI SHANKER & SONS, VARANASI

Clear
Bhawani Ashtagandha Chandan

सिंदूर का हिन्दू धर्म में पूजा पाठ में भी महत्तव है। कई देवी देवताओं को सिंदूर चढ़ाया जाता है। लेकिन गणेश जी, भैरू जी (भैरव जी) और हनुमान जी को तो सिंदूर का पूरा चोला चढाने की परम्परा है। मंगलवार यानी हनुमानजी की पूजा-अर्चना का दिन और उन्हें प्रसन्न करने के लिए उनकी प्रिय वस्तुओं को उन पर अर्पण करने का दिन, अक्सर ही देखा जाता है कि हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाया जाता है और कई लोग मन्नत पूरी होने के बाद भी हनुमानजी पर सिंदूर चढ़ाते हैं। हनुमान चालीसा में भी वर्णित है – राम रसायन तुम्हरे पासा, सदा रहो रघुपति के दासा ।।

इस बात से सिद्ध होता है कि हनुमान जी जीवनदायिनी बूटी के समान हैं, जिनकी उपासना से शारीरिक रूप से निर्बल भक्त में भी ऊर्जा का संचार होता है और वह स्वस्थ रहता है।

रामचरित मानस के अनुसार जब राम जी लक्ष्मण और सीता सहित अयोध्या लौट आए तो एक दिन हनुमान जी माता सीता के कक्ष में पहुंचे। उन्होंने देखा कि माता सीता लाल रंग की कोई चीज मांग में सजा रही हैं। हनुमान जी ने उत्सुक हो माता सीता से पूछा यह क्या है जो आप मांग में सजा रही हैं। माता सीता ने कहा यह सौभाग्य का प्रतीक सिंदूर है। इसे मांग में सजाने से मुझे राम जी का स्नेह प्राप्त होता है और उनकी आयु लंबी होती है। यह सुन कर हनुमान जी से रहा न गया ओर उन्होंने अपने पूरे शरीर को सिंदूर से रंग लिया तथा मन ही मन विचार करने लगे इससे तो मेरे प्रभु श्रीराम की आयु ओर लम्बी हो जाएगी ओर वह मुझे अति स्नेह भी करेंगे। सिंदूर लगे हनुमान जी प्रभु राम जी की सभा में चले गए।

राम जी ने जब हनुमान को इस रुप में देखा तो हैरान रह गए। राम जी ने हनुमान से पूरे शरीर में सिंदूर लेपन करने का कारण पूछा तो हनुमान जी ने साफ-साफ कह दिया कि इससे आप अमर हो जाएंगे और मुझे भी माता सीता की तरह आपका स्नेह मिलेगा। हनुमान जी की इस बात को सुनकर राम जी भाव विभोर हो गए और हनुमान जी को गले से लगा लिया। उस समय से ही हनुमान जी को सिंदूर अति प्रिय है और सिंदूर अर्पित करने वाले पर हनुमान जी प्रसन्न रहते हैं।

इसके अलावा हनुमानजी की प्रतिमा को सिंदूर का चोला चढ़ाने के पीछे वैज्ञानिक कारण भी है। हनुमानजी को सिंदूर लगाने से प्रतिमा का संरक्षण होता है। इससे प्रतिमा किसी प्रकार से खंडित नहीं होती और लंबे समय तक सुरक्षित रहती है। साथ ही चोला चढ़ाने से प्रतिमा की सुंदरता बढ़ती है, हनुमानजी का प्रतिबिंब साफ-साफ दिखाई देता है। जिससे भक्तों की आस्था और अधिक बढ़ती है तथा हनुमानजी का ध्यान लगाने में किसी भी श्रद्धालु को परेशानी नहीं होती।

श्री हनुमान की प्रतिमा पर सिंदूर का चोला चढ़ाने जा रहे हैं तो पहले उनकी प्रतिमा को जल से स्नान कराएं। इसके बाद सभी पूजा सामग्री अर्पण करें। इसके बाद मंत्र का उच्चारण करते हुए चमेली के तेल में सिंदूर मिलाकर मूर्ति पर सिंदूर का चोला चढ़ा दें।

सिंदूर चढ़ाते समय इस मंत्र का जप करें  –

सिन्दूरं रक्तवर्णं च सिन्दूरतिलकप्रिये।

भक्तयां दत्तं मया देव सिन्दूरं प्रतिगृह्यताम।।

Brand

Bhawani

S.Bhawani Shankar & Sons, Varanasi
Bhawani Ashtagandha Chandan
Weight 125 g
Pack

40gms, 125gms

1 review for Kashi Sankat Mochan Sindoor Lape (Kesariya Sindoor)

    Kumaran Naidu
    May 20, 2021
    As usual good product.
Add a review
Review now to get coupon!

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 + 17 =